Top free food restaurant in india


जब भी आप किसी Restaurant (रेस्टोरेंट) में खाने के लिए बाहर जाते हैं और बहुत ज्यादा खाते हैं तो बिल भी बड़ा हो जाता है। कभी-कभी ऐसा होता है कि खाना खाने के बाद Restaurant (रेस्टोरेंट) में पैसे न देने पड़े तो कितना अच्छा है। हालांकि आजकल Free (फ्री) में खाना संभव नहीं है और वो भी रेस्टोरेंट में नामुमकिन सा लगता है। लेकिन आज हम आपको भारत के एक ऐसे अनोखे रेस्टोरेंट के बारे में बताते हैं जहां आप इस इच्छा को पूरा कर सकते हैं।

Top free food restaurant in india



India में FREE FOOD देने वाले Hotel की List 


अगर आपको लगता है कि यह मजाक है तो मैं आपको बता दूं कि यह सच है। भारत में एक ऐसा रेस्टोरेंट है जहां पर आपको Free Food (फ्री में खाना) मिलता है और वो भी बहुत। आपको जानकर हैरानी होगी कि यहां आपको खाने के बाद पैसे नहीं देने पड़ते हैं बल्कि इसके बदले आपको एक पॉलीथिन बैग देना होता है।

बिना एक रुपया खर्च किए घूमना है तो इन 6 जगहों पर जाएं


1. Seva Cafe, Ahemdabad Gujarat

गुजरात के अहमदाबाद में Seva Cafe ऐसे लोगों को खाना परोस रहा है। यह रेस्टोरेंट पिछले 12 साल से गिफ्ट इकॉनमी पर चल रहा है। जब बिल का भुगतान करने की आपकी बारी आती है, तो आपकी मेज पर एक खाली लिफाफा रखा जाता है। इस कवर में खाने का बिल नहीं है लेकिन आपके नाम से किसी ने पहले ही खाने के बिल का भुगतान कर दिया है। अब आपको भी इस गिफ्ट में किसी और को अपनी मर्जी से पैसे देने होंगे।

1. Janakeeya Bhakshanasala (The People’s Restaurant), Pathirapall, Kerala


केरल का यह रेस्तरां सामाजिक जिम्मेदारी के मोर्चे पर बहुत अच्छा कर रहा है, लेकिन अपने भोजन के साथ भी उतना ही अद्भुत है। रेस्तरां अपने ग्राहक से भोजन के लिए शुल्क नहीं लेता है, लेकिन आप उस दान पेटी में पैसे दान कर सकते हैं जो आपको रेस्तरां में मिलेगा। इस पैसे का इस्तेमाल भविष्य में जरूरतमंदों के भोजन के लिए किया जाएगा। यहां एक जैविक खेत भी है, जिसका क्षेत्रफल 2.5 एकड़ है। रेस्तरां के लिए खाना बनाने के लिए खेत की सब्जियों का उपयोग किया जाता है। ग्राहक यहां उत्पादित सब्जियों को फार्म पर भी खरीद सकते हैं।

3. Natural Plastic Cafe, Gujarat 


जूनागढ़ में देश का पहला प्राकृतिक प्लास्टिक कैफे, एक किलो प्लास्टिक से मिलेगा पाउआ या ढोकला

30 जून को प्रशासन की नई पहल के तहत शुरू होने वाले नेचर कैफे का उद्घाटन राज्यपाल आचार्य देवव्रतजी करेंगे. जिसमें जूनागढ़ निवासी प्राकृतिक भोजन और अल्पाहार का आनंद ले सकेंगे। यह देश का पहला प्लास्टिक कैफे होगा जिसमें प्लास्टिक जमा करने पर आपको प्राकृतिक भोजन और सिरप मिलेगा।
 

4. Xchange Over Coffee, Delhi


Exchange Credit on Coffee : दिल्ली के नॉर्थ कैंपस इलाके में इस अद्भुत छोटे जोड़ में सभी के लिए कुछ न कुछ अच्छा है। छोटा जोड़ आपको मुफ्त भोजन के लिए पुस्तकों का आदान-प्रदान करने की अनुमति देता है। XCO के रूप में भी जाना जाता है, इस जगह में बैठने के बहुत कम विकल्प उपलब्ध हैं, और यह हमेशा युवा लोगों से गुलजार रहता है। यदि आप किसी उपन्यास के लिए आइटम का आदान-प्रदान कर सकते हैं तो आप वास्तव में मेनू से एक पिक भी ले सकते हैं।

यह भी सिद्ध हो चुका है कि भरपेट भोजन करने के बाद भी एक रुपया नहीं देना पड़ता है। यह अनोखा रेस्टोरेंट छत्तीसगढ़ में स्थित है। आप यहां पूरा खाना खा सकते हैं और आपको एक रुपया भी नहीं देना है।

5. Food Bank, Chhattisgarh 


Chhattisgarh (छत्तीसगढ़) की राजधानी Raipur (रायपुर) में एक सुविधाजनक रेस्टोरेंट खुल गया है। यहां ग्राहकों से खाने के पैसे नहीं लिए जाते। उन्हें खाने के बाद पैसे के बदले एक किलो Polythene Bag (पॉलीथिन की थैली) देनी होगी। अब आप सोच रहे होंगे कि ये रेस्टोरेंट पॉलीथिन बैग क्यों लेता है?

यह अनूठी पहल रायपुर नगर निगम ने की है। इधर स्थानीय प्रशासन शहर को पॉलीथिन मुक्त बनाना चाहता है। इसलिए उन्होंने लोगों को जागरूक करने के लिए यह अनूठी पहल शुरू की है। लोग पॉलीथिन इकट्ठा कर यहां मुफ्त में देते हैं। जब से यह व्यवस्था शुरू हुई है तब से लोग पॉलीथिन की थैलियां कहीं भी नहीं ले जा सकते हैं।

यह फूड बैंक नगर निगम के सहयोग से रायपुर के शास्त्री मार्केट में खोला गया है। जिसका संचालन महिलाएं करती हैं। यहां एक किलो पॉलीथिन बैग देने पर गर्मागर्म नाश्ता मिलता है।

यहां लोगों को गरमा गरम वड़ा समोसा पोहा बनाने जैसी चीजें परोसी जाती हैं। अब यहां हम इस मेनू में भोजन को शामिल करने के बारे में सोच रहे हैं। ऐसा करने से एनजीओ की महिलाओं को भी आमदनी होगी।

यहां का नगर निगम लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करना चाहता है। रायपुर में भले ही पॉलीथिन पर पाबंदी है, लेकिन लोग इसका इस्तेमाल जारी रखते हैं। इस योजना को कर व्यवस्था शहर का नाम स्वच्छता सर्वेक्षण में आगे लाने का प्रयास कर रही है।

6. Pappadavada, Kochi


Minu Pauline द्वारा शुरू किया गया, यह स्थान आपके औसत भोजनालय से थोड़ा अलग है। यहां मालिक ने रेस्तरां के बाहर एक फ्रिज रखा है और वह संरक्षकों से इसके अंदर अतिरिक्त भोजन छोड़ने का आग्रह करती है। फिर उस भोजन को गरीबों और भूखे लोगों को परोसा जाता है। फ्रिज को उपयुक्त नाम दिया गया है, "अच्छाई का पेड़," और उन लोगों के लिए एक वरदान है जिन्हें भोजन की आवश्यकता होती है। जैसा कि लगभग हर दिन होता है कि इतना अधिक भोजन बर्बाद हो जाता है, यह विचार इस संबंध में बदलाव ला सकता है।

आपने कितना भी पढ़ा हो लेकिन इन 20 चीजों के नाम अंग्रेजी में नहीं पता होगा



Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Post a Comment

Previous Post Next Post