मधुमेह के लिए आयुर्वेदिक उपचार, आज जाना जाता है भारी दवाओं से रहें दूर



ब्लड शुगर यानी मधुमेह को नियंत्रित करना आज एक बड़ी चुनौती बन गया है, लेकिन आयुर्वेद और घरेलू ज्ञान इतना मजबूत है कि यह भरोसा करने और लगातार करने लायक है, चाहे बीमारी कितनी भी गंभीर क्यों न हो। बहुत से लोगों ने इसे अपनाया है और अपने मधुमेह को नियंत्रित किया है, अब आपकी बारी है। इसके लिए केवल निरंतरता और दृढ़ता की आवश्यकता है। आइए जानते हैं यह उपाय। डायबिटीज के मरीजों को सबसे पहले दो चीजों को अपनी दिनचर्या में शामिल करना चाहिए, एक है योग और दूसरा है टहलना।

मधुमेह में, रक्त शर्करा का स्तर बढ़ जाता है। भारत में मधुमेह के रोगियों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ रही है।इस बीमारी का कारण मुख्य रूप से इंसुलिन हार्मोन की गड़बड़ी माना जाता है। तनाव और अनियंत्रित जीवनशैली इस बीमारी को जन्म देती है।

मधुमेह के कारण

1. व्यायाम की कमी
2. मानसिक तनाव
3. ओवरस्लीपिंग
4. मोटापा
5. चीनी और रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट का अत्यधिक सेवन
6. वंशानुगत कारक

मधुमेह के लक्षण

1. रात में बार-बार पेशाब आना।
2. धुंधली दृष्टि।
3. थकान और कमजोरी महसूस होना।
4. पैरों का सुन्न होना।
5. अत्यधिक प्यास।
6. घाव भरने में समय लगता है।
7. हमेशा भूखा रहना।
8. वजन कम करें।
9. त्वचा में संक्रमण।
10. बार-बार और अत्यधिक पेशाब आना।
11. सोयाबीन, जौ और चने के मिश्रित आटे से बनी रोटी खाएं, यह शुगर लेवल को कम करने में काफी मदद करता है।
12. मांस और वसायुक्त भोजन हानिकारक हैं।
13. हर 24 घंटे में 3-4 लीटर पानी पीने की आदत डालें।
14. अपने आहार में भरपूर मात्रा में हरी सब्जियां, फल और फाइबर खाएं। चीनी और मीठे फलों से परहेज करें।
15. आम के 10-15 पत्ते गर्म पानी से भरे बर्तन में डालकर रात भर रख दें, सुबह छानकर पी लें यह मधुमेह के लिए एक प्रभावी उपाय है।
16. अपनी उम्र के हिसाब से रोजाना 2 से 4 किलोमीटर पैदल चलना जरूरी है।

मधुमेह के लिए अचूक उपाय

अगर आप भी मधुमेह से पीड़ित हैं तो आपको किसी अच्छे स्वास्थ्य विशेषज्ञ से सलाह लेकर अपने ब्लड शुगर की जांच जरूर करानी चाहिए। जिसके लिए आपको एक अच्छे विशेषज्ञ की तलाश करनी होगी, लेकिन अब आपको बिल्कुल भी परेशान होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि आपको अपनी समस्या का समाधान भी ऑनलाइन ही मिल जाएगा।

निम्नलिखित उपायों को अपनाकर आप मधुमेह से बच सकते हैं।

तुलसी के पत्तों में एंटीऑक्सिडेंट और आवश्यक तेल होते हैं जो यूजेनॉल, मिथाइल यूजेनॉल और कैरियोफिलीन बनाते हैं। ये सभी तत्व कोशिकाओं को ठीक से काम करने के लिए इंसुलिन को स्टोर और रिलीज करने में मदद करने के लिए मिलकर काम करते हैं। इससे इंसुलिन के प्रति संवेदनशीलता बढ़ जाती है। एक और लाभ यह है कि पत्तियों में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट ऑक्सीडेटिव तनाव के दुष्प्रभाव को कम करते हैं।

जामुन की दाल को लेकर उसे सुखाकर, सुखाकर पीसकर चूर्ण बना लें, अब इसे दिन में दो बार पानी या दूध के साथ करने से मधुमेह रोग ठीक हो जाता है।

कोई भी उपाय करने से पहले डॉक्टर से सलाह लें।

Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Post a Comment

Previous Post Next Post