रात को किस करवट सोना चाहिए बाएं या दाएं - जानिए यहाँ


आयुर्वेद में कहा गया है कि एक वयस्क को नियमित रूप से सात से आठ घंटे की Sleep (नींद) लेनी चाहिए। ताकि उनका Health (स्वास्थ्य) ठीक रहे। आयुर्वेद में व्यक्ति के Sleep Position (सोने के तरीके) के आधार पर उसके स्वास्थ्य के बारे में बहुत चर्चा है। हर किसी के Sleep Mode (सोने का तरीका) अलग होता है। जैसे कोई Left Side Sleep (बाईं ओर सोता) है, वैसे ही कोई Right Side Sleep (दाईं ओर सोता) है। कोई अपनी पीठ सीधी करके सोता है, जबकि कोई पेट उल्टा करके सोता है। लेकिन कुछ स्थितियां ऐसी भी होती हैं जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक होती हैं।

रात को किस करवट सोना चाहिए बाएं या दाएं - जानिए यहाँ

किसी व्यक्ति के रात में सोने के तरीके के आधार पर उसके स्वास्थ्य के बारे में बहुत कुछ सीखा जा सकता है। Ayurvedic Science (आयुर्वेद शास्त्र) के भीतर ऐसे कई तरीके हैं जिनसे कोई भी व्यक्ति इस स्थिति में सोकर स्थायी रूप से स्वस्थ रह सकता है। आमतौर पर लोग रात को अलग-अलग अंदाज में सोते हैं। लेकिन अगर लोग बिस्तर में इसका गलत इस्तेमाल करते हैं तो इससे उनकी सेहत को कई तरह के नुकसान हो सकते हैं।

अपनी जन्मतिथि चुनें और जानें कि आपकी लव मैरिज होगी या अरेंज मैरिज

आमतौर पर खाने के बाद या रात के समय Left Side Sleep (बायीं करवट सोने) से स्वास्थ्य अच्छा रहता है। किसी के लिए भी बाईं करवट सोना बहुत फायदेमंद माना जाता है। लेकिन ज्यादातर लोगों को यह नहीं पता होता है कि बाईं करवट सोना ही अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने का एकमात्र तरीका क्यों है। और यह किस प्रकार के लाभ लाता है?

बहुत से लोग यह नहीं जानते हैं कि सोते समय बाईं ओर झपकी लेने से हमारे शरीर को कई फायदे होते हैं। हृदय रोग, पेट खराब, थकान, सूजन और अन्य शारीरिक समस्याओं जैसे कई रोगों को बायीं करवट सोने से ही ठीक किया जा सकता है। यहां हम आपको बता रहे हैं कि किस तरह से बाईं करवट सोना सेहत के लिए अच्छा होता है।

भोजन आराम से पच जाता है

अगर आप अपना खाना पचाना चाहते हैं तो बायीं करवट सोना ज्यादा कारगर होगा। इस पोजीशन में सोने से पाचन तंत्र पर कोई दबाव नहीं पड़ता और यह अपना काम आसानी से कर लेता है।

लीवर और किडनी के लिए फायदेमंद

लीवर और किडनी ही ऐसे हैं जो हमारे शरीर से सबसे ज्यादा कचरा बाहर निकलते हैं। इसलिए सोते समय अधिक दबाव नहीं डालना चाहिए।

अपचा को दूर करता है

जो लोग अपचा और अपचे से पीड़ित हैं, उनके लिए डॉक्टर बाईं करवट सोने की सलाह देते हैं।

पेट को आराम मिलेगा

इस स्थिति में सोने से गुरुत्वाकर्षण भोजन को छोटी आंत से बड़ी आंत तक आराम करने में मदद करता है। इससे सुबह पेट आसानी से खाली हो जाता है।

दिल को स्वस्थ रखता है

जो लोग रात में गलत पोजीशन में सोते हैं उनके दिल पर भार पड़ता है। रात में सोने की सही पोजीशन बाईं ओर होती है। इससे हृदय पर भार कम होता है और हृदय को रक्त की बेहतर आपूर्ति होती है। अब हृदय स्वस्थ होगा तो शरीर और मस्तिष्क तक रक्त और ऑक्सीजन की आपूर्ति आसानी से हो सकेगी।

एसिडिटी से राहत

अगर आपको रोज सुबह उठने के बाद एसिडिटी होती है तो समझ लें कि आप गलत पोजीशन में सो रहे थे। लेकिन अगर आप बायीं करवट सोते हैं तो पेट का एसिड ऊपर की बजाय नीचे जाएगा, जिससे एसिडिटी और सीने में जलन नहीं होगी।

बैक पेन से आराम

ऐसा माना जाता है कि जो लोग बायीं करवट सोते हैं उनके काठ की हड्डियों पर भार नहीं पड़ता है और पीठ दर्द से भी राहत मिलती है। ऐसा करने से नींद भी अच्छी आती है।

अगर आप घुटने में सूजन या दर्द से परेशान हैं तो आज ही आजमाएं ये घरेलू उपाय

गर्भावस्था के लक्षणों से राहत

गर्भावस्था में बाईं ओर सोने से जो भी लक्षण हों, उनमें आराम मिलता है। जैसे पीठ दर्द या मांसपेशियों में दर्द आदि। यही कारण है कि यह स्थिति पीठ और यकृत से दबाव कम करती है और गुर्दे और बच्चे में रक्त प्रवाह को बढ़ाती है।

Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Post a Comment

Previous Post Next Post