नवरात्रि में किस दिन किस रंग के कपड़े पहनना शुभ माना जाता है? - जाने


Navratri (नवरात्रि) में Nine Day (नौ दिनों) तक दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। हिंदू धर्म में इन नौ दिनों का विशेष धार्मिक महत्व है। इस दौरान, लोग Maa Durga (दुर्गा) को प्रसन्न करने के लिए अनुष्ठान करते हैं और व्रत रखते हैं। दुर्गा के भक्त नौ दिनों तक अलग-अलग रंग के कपड़े पहनकर देवी दुर्गा की पूजा करते हैं।

नवरात्रि में किस दिन किस रंग के कपड़े पहनना शुभ माना जाता है? - जाने



हर दिन का एक अलग रंग और महत्व होता है। ऐसा माना जाता है कि हर दिन माताजी का एक विशेष रंग होता है। इस रंग के वस्त्रों में पूजा करने से माताजी प्रसन्न होती हैं। तो आइए आपको बताते हैं कि नवरात्रि के अलग-अलग दिनों में कौन से रंग पहनना शुभ माना जाता है।

इनमें से कोई एक विकल्प चुनें और जानें अपने दिल में छिपे रहस्यों के बारे में

पहले दिन

नवरात्रि के पहले दिन Mata Shailputri (माता शैलपुत्री) की पूजा की जाती है। ऐसा माना जाता है कि मां शैलपुत्री को Yellow Colour (पीला रंग) बहुत प्रिय होता है। इसलिए इस दिन पीले वस्त्र पहनकर माताजी की पूजा करने से शैलपुत्री प्रसन्न होती है और सौभाग्य भी लाती है।

दूसरे दिन

नवरात्रि के दूसरे दिन Mata Brahmacharini (माता ब्रह्मचारिणी) की पूजा की जाती है। धार्मिक मान्यता है कि मां ब्रह्मचारिणी को Green Colour (हरा रंग) बेहद पसंद है, इसलिए हरे रंग से उनकी चुंडी और श्रृंगार भी किया जाता है। भक्तों को हरे कपड़े पहनकर पूजा करनी चाहिए। नवरात्रि के दूसरे दिन हरे रंग के वस्त्र धारण करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

तीसरे दिन

नवरात्रि के तीसरे दिन मां दुर्गा के Chandraghanta (चंद्रघंटा) स्वरूप की पूजा की जाती है। इन्हें भूरा रंग बहुत पसंद होता है। इसलिए इनके कपड़े भी Brown Colour (भूरे रंग) के कपड़े के ही बने होते हैं। भक्तों को नवरात्रि के तीसरे दिन भूरे रंग के कपड़े पहनकर माताजी की पूजा करनी चाहिए। इस दिन भूरे रंग के वस्त्र धारण करने से माताजी प्रसन्न होती हैं और चंद्रघंटा की कृपा प्राप्त होती हैं।

चौथे दिन

नवरात्रि के चौथे दिन Kushmanda (कुष्मांडा) की पूजा की जाती है। माना जाता है कि इन्हें Orange Colour (नारंगी रंग) बेहद पसंद होता है। उनकी पूजा के दौरान नारंगी रंग के कपड़े से भी सारा श्रृंगार किया जाता है। इसलिए भक्तों को नारंगी रंग के कपड़े पहनकर पूजा करनी चाहिए। इससे माताजी प्रसन्न होती हैं। नारंगी रंग ज्ञान और शांति का प्रतीक माना जाता है।

पांचवें दिन

नवरात्रि के पांचवें दिन Skandmata (स्कंदमाता) की पूजा की जाती है। माना जाता है कि स्कंदमाता को White Colour (सफेद रंग) बेहद प्रिय है। इसलिए भक्तों को उनकी पूजा करते समय सफेद वस्त्र धारण करने चाहिए। भक्तों को उनकी आस्था का फल जरूर मिलता है। इससे माताजी प्रसन्न होती हैं और आप पर उनकी कृपा सदैव बनी रहती है।

छठे दिन

नवरात्रि के छठे दिन Katyayani (कात्यायनी) की पूजा की जाती है। माना जाता है कि कात्यायनी को Red Colour (लाल रंग) बेहद पसंद है, इसलिए इस बात को ध्यान में रखते हुए उनका मेकअप भी लाल कपड़ों से ही किया जाता है। नवरात्रि के छठे दिन माताजी को प्रसन्न करने के लिए भक्तों को लाल रंग के वस्त्र भी पहनने चाहिए।

सातवें दिन

नवरात्रि के सातवें दिन kaalratri (कालरात्रि) की पूजा की जाती है। उन्हें Blue Colour (नीला रंग) बहुत पसंद है। उनकी मूर्ति के कपड़े और पूजा के अन्य सामान भी नीले कपड़े से सजाए गए हैं। उनकी पूजा करते समय भक्तों को नीले रंग के कपड़े पहनने चाहिए।

आपने कितना भी पढ़ा हो लेकिन इन 20 चीजों के नाम अंग्रेजी में नहीं पता होगा

आठवें दिन

नवरात्रि के आठवें दिन Maa Mahagauri (मां महागौरी) की पूजा की जाती है। उन्हें Pink Colur (गुलाबी रंग) बहुत पसंद है। इसलिए उन्हें प्रसन्न करने के लिए नवरात्रि के आठवें दिन गुलाबी रंग के वस्त्र धारण करने चाहिए।

नौवें दिन

नवरात्रि के नौवें और आखिरी दिन Siddhidatri (सिद्धिदात्री) की पूजा की जाती है। मान्यता है कि सिद्धिदात्री को Purple Colour (बैंगनी रंग) बहुत प्रिय है। इसलिए इनकी पूजा करते समय बैंगनी रंग के वस्त्र धारण करने चाहिए। इससे सिद्धिदात्री की कृपा प्राप्त होती है और कई अन्य लाभ भी प्राप्त होते हैं।

Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Post a Comment

Previous Post Next Post