यह चीज मांस, दूध और अंडे से भी ज्यादा ताकतवर है


आज हम आपके लिए Soybean Benefits (सोयाबीन के फायदे) लेकर आए हैं। Soybean (सोयाबीन) को अपनी डाइट में शामिल करके आप कई बीमारियों से दूर रह सकते हैं। सोयाबीन प्रोटीन से भरपूर होता है। यह अंडे, दूध और मांस में पाए जाने वाले प्रोटीन से अधिक है। इसके अलावा इसमें विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, विटामिन ई, मिनरल्स और अमीनो एसिड पर्याप्त मात्रा में होते हैं, जो शरीर की विभिन्न जरूरतों को पूरा करने के अलावा कई बीमारियों के इलाज में भी काफी कारगर होते हैं।

यह चीज मांस, दूध और अंडे से भी ज्यादा ताकतवर है




मांसाहारी प्रोटीन की कमी को पूरा करने के लिए अंडे, मछली और मांस का सेवन करते हैं, लेकिन शाकाहारी प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों की तलाश करते हैं। ऐसे में सोयाबीन उनके लिए एक अच्छा विकल्प साबित होता है, क्योंकि इसमें अंडे, दूध और मांस से ज्यादा प्रोटीन होता है।

ये फल किडनी स्टोन में करता रामबाण इलाज ! जाने यहाँ 

क्या कहते हैं डाइटिशियन

आहार विशेषज्ञ डॉ. रंजना सिंह का कहना है कि शरीर की विभिन्न जरूरतों को पूरा करने के अलावा सोयाबीन का सेवन कई बीमारियों के इलाज में काफी कारगर होता है। सोयाबीन से शारीरिक विकास, त्वचा संबंधी समस्याओं और बालों की समस्याओं का इलाज भी संभव है।

Soybean में पाए जाते हैं पोषक तत्व

सोयाबीन एक महत्वपूर्ण खाद्य स्रोत हैं। इसके मुख्य घटक प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और वसा हैं। सोयाबीन में 36.5 ग्राम प्रोटीन, 22 प्रतिशत तेल, 21 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट, 12 प्रतिशत नमी और 5 प्रतिशत राख होती है।

दूध-अंडे और सोयाबीन में प्रोटीन पाया जाता है

सोयाबीन (100 ग्राम) 36.5 ग्राम
एक अंडा (100 ग्राम) 13 ग्राम
दूध (100 ग्राम) 3.4 ग्राम
मांस (100 ग्राम) 26 ग्राम

एक दिन में कितने Soybean खा सकते हैं?

आप एक दिन में 100 ग्राम सोयाबीन भी खा सकते हैं। 100 ग्राम सोयाबीन में लगभग 36.5 ग्राम प्रोटीन होता है। दिन में एक बार इसका इस्तेमाल करने से आपके शरीर को काफी फायदा होगा। यह उन लोगों के लिए अच्छा है जिनमें प्रोटीन की कमी होती है।

Soybean का पोषण विवरण

67 ग्राम प्रोटीन
37 ग्राम वसा
17 ग्राम फाइबर
515 मिलीग्राम कैल्शियम
29 मिलीग्राम आयरन
521 मिलीग्राम मैग्नीशियम
3 ग्राम फास्फोरस
3 ग्राम पोटेशियम
698 माइक्रोग्राम फोलेट
विटामिन A की 41 IU

Soybean खाने के फायदे

  • सोयाबीन में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट कई तरह के कैंसर को रोकने में मदद करते हैं।
  • सोयाबीन में पाए जाने वाले पोषक तत्व हड्डियों को मजबूत करने का काम करते हैं।
  • प्रोटीन युक्त सोयाबीन का सेवन करने से मेटाबॉलिज्म सिस्टम स्वस्थ रहता है।
  • सोयाबीन का सेवन कोशिका वृद्धि और क्षतिग्रस्त कोशिकाओं की मरम्मत में मदद करता है।
  • सोयाबीन का सेवन मानसिक संतुलन को सुधारने और दिमाग को तेज करने का काम करता है।
  • सोयाबीन का सेवन हृदय रोगों में भी बहुत फायदेमंद होता है।

Diabetes के लिए सोयाबीन के फायदे


शुगर युक्त खाद्य पदार्थों के सेवन से मधुमेह की समस्या बढ़ सकती है। इसे लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स फूड की श्रेणी में गिना जाता है, जिसमें कार्बोहाड्रेट और वसा की कम मात्रा होती है। इसलिए, मधुमेह में सोयाबीन का सेवन लाभकारी साबित हो सकता है । इसमें पाया जाने वाला प्रोटीन ग्लूकोज को नियंत्रित करता है और इंसुलिन में आने वाली बाधा को कम कर सकता है। साथ ही सोयाबीन में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा कम होने के कारण इससे बने उत्पादों का सेवन मधुमेह के मरीज के लिए उचित माना गया है (1) (2)

हड्डियों के लिए

सोयाबीन खाने से हड्डियां मजबूत होती है। यह एस्ट्रोजन हार्मोन (इसे फीमेल हार्मोन भी कहते है) और हड्डियों के सुरक्षा में भी सहायक होता है। सोयाबीन में फाइटोएस्ट्रोजेन्स (phytoestrogens) पाए जाते हैं, जो हड्डियों को कमजोर होने से बचा सकते हैं (3)

कैंसर के लिए

सोयाबीन के फायदों के बारे में बात करें, तो इनमें से एक कैंसर से बचाव भी शामिल है। जैसा कि आप जान ही चुके हैं कि सोयाबीन में आइसोफ्लेवोंस (एक तरह के रासायनिक कंपाउंड) पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। साथ ही सोयाबीन को फाइटोकेमिकल्स के समूह का भी मुख्य स्रोत माना गया है। ऐसे में ये दोनों तत्व एंटीकैंसर के रूप में अपना असर दिखा सकते हैं। सोयाबीन के सेवन से स्तन और गर्भाशय से संबंधित कैंसर से बचने में मदद मिल सकती है (7)

अगर आप घुटने में सूजन या दर्द से परेशान हैं तो आज ही आजमाएं ये घरेलू उपाय

Soybean खाने का सही तरीका

रात को सोने से पहले एक बर्तन में पानी जरूर लें।
इसमें 100 ग्राम सोयाबीन भिगो दें।
इसका सेवन आप सुबह उठने के बाद नाश्ते में कर सकते हैं।
इसके अलावा आप सोयाबीन की सब्जी बनाकर भी खा सकते हैं।

Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Post a Comment

Previous Post Next Post