गुजरात में है मिनी काश्मीर आपने देखा क्या ? यहाँ देखे


पिछले एक हफ्ते से उत्तरी गुजरात समेत पूरे गुजरात में भारी बारिश के कारण कई नदियों और तटों पर ताजा पानी मिलना शुरू हो गया है. इसके साथ ही अरावली की पहाड़ियां भी हरियाली के साथ खिल रही हैं। अरावली की पहाड़ियों पर फैली हरी चादरों के कारण वहां का वातावरण अत्यंत मनोरम और सुंदर हो गया है। जैसे ही भीलोदा तालुका का सुनसार जलप्रपात जीवंत होता है, पूरा दृश्य मनोरम हो जाता है। झरने से पानी के लगातार प्रवाह के कारण, गुजराती पर्यटक यहां स्वर्ग जैसा माहौल लेने के लिए आते हैं।

गुजरात में है मिनी काश्मीर आपने देखा क्या ? यहाँ देखे

मानसून शुरू होते ही अरावली की पहाड़ियां प्रकृति की सुंदरता से खिल उठती हैं। साबरकांठा और अरावली जिलों के उत्तरी सीमा क्षेत्रों में फैले अरावली की पहाड़ियाँ मानसून के दौरान अपनी सुंदरता से खिल जाती हैं। इसी तरह आज के समय में भी अरावली की पहाड़ियों का प्राकृतिक सौन्दर्य अपने चरम पर है। साथ ही गिरिमाला में छोटे-बड़े झरने भी इस तरह से बनाए गए हैं कि कोई भी इन्हें देखकर मन मोह लेता है।

यह Waterfall सुनसर गाँव में स्थित है, जो भिलोदा तालुक के सुनसर गाँव में है। बारिश शुरू होते ही यहां का प्राकृतिक वातावरण खूबसूरत हो जाता है। गांव एक पहाड़ी क्षेत्र में स्थित है, जिसके कारण जब मानसून की बारिश शुरू होती है, तो सुनसर गांव में धरती माता के मंदिर के पास यह प्राकृतिक झरना अपनी सुंदरता को पुनर्जीवित करता है। जलप्रपात शुरू होते ही कुदरत का यह खूबसूरत नजारा हमारी आंखों को भी ठंडक पहुंचा देता है।

हर साल मानसून के मौसम में लोग प्रकृति के इस खूबसूरत और सुरम्य जलप्रपात को देखने के लिए दूर-दूर से यहां आते हैं। इस जलप्रपात का मनोरम दृश्य देखना भी सौभाग्य की बात है। प्राकृतिक सौन्दर्य और यहाँ के वातावरण से बने इस जलप्रपात के सुन्दर नजारों को देखने के बाद गाँव के लोग और यहाँ आने वाले लोग इसे मिनी कश्मीर के नाम से भी जानते हैं।

मानसून में जब भी बारिश शुरू होती है और पानी आने लगता है तो पानी इस झरने में प्रवेश कर जाता है और यह झरना लगातार बहता रहता है। यहां साबरकांठा के अरावली जिले के अलावा अहमदाबाद, वडोदरा, सूरत, मेहसाणा और आसपास के शहरों से लोग शहर की व्यस्त जिंदगी को छोड़कर यहां मस्ती करने आते हैं.

Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Post a Comment

Previous Post Next Post